like

drap down

Thursday, December 31, 2015

shayarisahara की तरफ से Happy new year


!"" !""""!        !"""""!             😜
!     !        !      !
!     !        !      !   """HUM
!      """""""       !
!     !"""""""!     !
!     !         !     !
!     !         !     !'
"""""          """""

      /""""""""""\
    /      / \      \
   ¡       """""       !
   ¡      !"""""!      ! """AAPKO
   ¡      ¡       !     !
   ¡      !      !      !
   """"""       """""''

  !"""""""""""""\
  !     !""""!      !
  !     !     !      !
  !      """""     /  """"""PAL
  !      !"""""""
  !      !
  !      !
  """""""

!"""""""""""""\
¡      ¡""""!      !
!      !     !      !
!      """"""     / """""PAL
!     ! """"""""
!     !
!     !
""""""

\""""""\          /"""""/
  \        \     /       /
    \        \  /      /
      \                /
        ¡              ¡ """YAD
        !              ¡     KARTE
        ¡              ¡     HAI....
        """""""""""""

   ¡""""""""\         ¡"""""¡
   ¡            \       ¡       ¡
   ¡       ¡\     \    ¡       ¡
   ¡       ¡  \     \  ¡       ¡
   ¡       ¡    \     \¡       ¡
   ¡       ¡      \             ¡
   """""""       """""""""""

   ¡"""""""""""""""""!
   ¡      !""""""""""""
   ¡      !  
   !      """"""""""""!    I
   ¡      !"""""""""""'   WISH
   ¡      !                    YOU
   ¡       """"""""""!      ALL
   """""""""""""""""     BEST....


   ¡""""""!         !""""""!
   ¡        !        !        !
   ¡        !/"" \!         !
   ¡                           !
   ¡          /  \           !
   ¡        /      \         !
   """""""          """""""

 \""""""\          /""""""/  
  \        \     /       /
    \        \ /       /
      !                 !
      !                !
      !               !
      """""""""""""""'

   ! """"""""""""""""!
   !       !""""""""""
   !       !
   !       """""""""""!
   !      !"""""""""""
   !      !
   !      """"""""""""!
   """"""""""""""""""'

        /"""""""""\
      /      /\      \
     ¡       """"       !
     !      !""""!      !
     !      !     !      !
     !      !     !      !
     """"""      """"""

   !""""""""""""""\
   !     !"""""!      ¡
   !     !       !      !
   !     """"""'"     /
   !      !""""''!     \
   !      !       !     ¡
   ¡       !      !     ¡
   """""""      """"""

  /""""""""""""""""\
 !     !""""""""!      !
 """""           !      !
  /"""""""""""      /
!     !""""""""""""
!     !             !""""!
\     """""""""""     /
  """""""""""""""""""

   /"""""""""'"""\
  ¡     !""""!       !
  ¡     !     !       !
  ¡     !     !       !
  ¡     !     !       !
  \     """""      /
    """""""""""""'

        /""""""""""'!
      /       /!     !
     """""""    !     !
                 !     !
                 !     !
         


         /"""""""""""""\
        !     !""""""'!     !
        !     !        """"'''
        !       """"""""""\
        !       !"""""!      !
         \      """"""     /
           """""""""""""'""


🎄HAPPY.....🎄 NEW YRS 2016......🎄 in for you.....🎄by...🎄Please share it maximum......
THANKS.... ""!
!     !
!     !

Wednesday, December 30, 2015

hindi shayari kahena galat to chupana best. shayari


Kahena galat to chupana


shayarisahara
कहना गलत तो छुपना सही सही .
जालिम कहा जो तू ने बताना सही सही..












मैंहैरबा हो के बुलालो मुझे चाहो जिस वक़्त.
में गया वक़्त नही हु की फिर ना आसकु..













रात है सन्नाटा है वहा कोई ना हो गया .
उनके दर ओ दीवार ग़ालिब चलो चूम के आते हैं..













मुद्दत। हुई है। यार को मेहमान कहे हुए.
जोशे जुनु से बज़मे चराग किये हुए..











सजदे तो सब ने किये तेरा नया अंदाज़ है.
तूने वो सजदा। किया जिस पर अज़ीज़ को नाज़ है..











नह समझोगे तो मिट जाओगे जहाँ से.
तुम्हारी दास्तान भी नह होगी दास्तानों में..
















इंकार में वह लज्जत ,इकरार में कहा है.
बढ़ता है शौक़"जालिम"तेरे नही नही मे..









हम ने माना के और जुल्म ना करोगे .
लेकिन खाख हो जायेंगे हम, तुम को खबर होने तक..

उग रहा है दरो दीवार से सब्ज़ ग़ालिब.

हम बयाबाँ में है और घर में बहार आई है..shayarisahara.blogspot.com

Friday, December 18, 2015

Hindi shayari 2line romantic shayari

maine tujhko chaha hai

मैंने तुझको चाहा है ये मैं नहीं दिल कहता है ।
मैंने किसी से प्यार किया है ये मै नही दिल कहता है ।।



मैं राह तकती रही फिर भी ना आया मेरा सजना ।
दिन से रात हो गई ना दिल को बहलाने आया मेरा सजना ।।



इस तरह तुम अपने होश गँवाओ ना ।
मेरे प्यार को और रुस्वा करो ना      ।।





दिल से दिल मिल गया आज नैना चार हुई ।
मेरे दिल में उनके लिए प्यार की बरसात    ।।




अगर दिलबर की रुसवाई मुझको खुद मंजूर हो जाए ।
सामने चमन भी हो तो खुद बहार हो जाए।   ।।



तुमको सदा से मैं प्यार करता चला हूँ ।
तुम्ही को तुम्ही से चुराता चला हूँ    ।।



अगर दिलबर से प्यार हो जाए तो और क्या चाहिए ।
बस एक छोटा सा प्यार का महल चाहिए   ।।




सारा दिन  मैं तुमको देखता रहूँ ।
मुझे किसी की परवाह नही सिर्फ तुम्हे चाहता हु ।।





तेरे आगे आज खुद चाँद भी शर्माएगा ।
कसम से हसीना मुझको सारा दिन चैन न आएगा ।।

Hindi shayari 2line romantic shayari

maine tujhko chaha hai

मैंने तुझको चाहा है ये मैं नहीं दिल कहता है ।
मैंने किसी से प्यार किया है ये मै नही दिल कहता है ।।



मैं राह तकती रही फिर भी ना आया मेरा सजना ।
दिन से रात हो गई ना दिल को बहलाने आया मेरा सजना ।।



इस तरह तुम अपने होश गँवाओ ना ।
मेरे प्यार को और रुस्वा करो ना      ।।





दिल से दिल मिल गया आज नैना चार हुई ।
मेरे दिल में उनके लिए प्यार की बरसात    ।।




अगर दिलबर की रुसवाई मुझको खुद मंजूर हो जाए ।
सामने चमन भी हो तो खुद बहार हो जाए।   ।।



तुमको सदा से मैं प्यार करता चला हूँ ।
तुम्ही को तुम्ही से चुराता चला हूँ    ।।



अगर दिलबर से प्यार हो जाए तो और क्या चाहिए ।
बस एक छोटा सा प्यार का महल चाहिए   ।।




सारा दिन  मैं तुमको देखता रहूँ ।
मुझे किसी की परवाह नही सिर्फ तुम्हे चाहता हु ।।





तेरे आगे आज खुद चाँद भी शर्माएगा ।
कसम से हसीना मुझको सारा दिन चैन न आएगा ।।

Friday, December 11, 2015

hindi shayari uski yaad me sab sare mahol


Uski yaad me sab


उसकी याद में सब कुछ भुला बैठे हैं; चिराग खुशियो के बुझा बैठे हैं; हम तो मरेंगे उनकी बाहों में; ये भी शर्त मौत से लगा बैठे हैं!....











सरे माहोल में खुशबू है तेरी यादों की; हम को ग़म-खाने को भी फूलों से सजा रखा है!....









याद आती है जो मरहूम तमन्नाओं की; भूल जाता हूँ के महरूम-इ-तमन्ना हूँ मैं!....










बिखरी हुई राहों से जो गुज़री हम कभी; हार ग़म पर खोयी हुई इक याद मिल गयी!....









कभी तुझे चांदनी रातों में; याद आये जो हम बरसातों में; नफरत ही से लेना नाम मेरा; जो ज़िकर मेरा हो बातों में!....









तेरी याद में हर पल खोया हु मैं; तुझे महसूस कर अकेले रॉय हु मैं; न जाने कब तेरा दीदार हो; इस इंतज़ार में खुली आँखों से सोया हु मैं!.....









बड़ी तब्दीलियां लए हैं हम अपने आप में; लेकिन तुम्हारी याद मैं रहने की आदत, अब्ब भी बक्की है!....










मेरी साँसों को आदत है, तेरी यादों से चलने की; रुक जाएंगी यह सांसें, जिस दिन तुम याद न आओगे!...







कभी किताबो मैं फूल रखना; कभी दरख्तों पे नाम लिखना; हमें भी है याद आज तक वह; नज़र से हर्फ़-इ-सलाम लिखना!...

Wednesday, December 9, 2015

hindi shayari Bahot#खूबसूरत*unka हर। अन्दाज़।।aap ki yaad dil ko

Bahot#खूबसूरत*unka हर। अन्दाज़

बहोत #खूबसूरत उनका हर अंदाज है.
हकीकत है यां ख्वाब है.
खुसनसीब के पास रहते हैं वो.
बास उनकी मीठी सी याद है#मेरे पास....



~~~~~~~~



आपकी #याद दिल को बेक़रार करती है.
नज़र तलास आपको बार बार करती है.
गिला नही जो हम हैं दूर आपसे .
हमारी तो जुदाई भी प्यार #आपसे करती है



~~~~~~~~



तुम से #वाबस्ता का ये आलम हाई; हम वो सांस नही लेते जिसमे तुम्हारी# याद ना हो!...



~~~~~~~~~



आपने #दिल की सुनो, आफवाओ सेे काम  ना ले.. मुझे याद रख बेशक नाम ना ले; तेरा वाहेम है के हम भूल गये तुझे; मेरी कोई ऐसी सांस नही जो तेरा #नाम ना ले!.....



~~~~~~~~~



#तेरी याद इलाज-ए-ग़म है; सोच, तेरा #मुकाम क्या होगा!....



~~~~~~~~~



मैं उसी के #ख्याल से जाओं तो कहाँ जाऊं; वह मेरी सूच के हर रस्ते पाए #नज़र आता है!......



~~~~~~~~



मेरी# यादों की कश्ती उस समुन्दर में तैरती है; जिस में पानी मेरी अपनी ही #पलकों का होता है!.



~~~~~~~~



कैसे# भुला दूँ मैं उसको; मौत इंसानो को आती है,यादों #को नहीं!......



~~~~~~~~~~~



#सजा बन जाती है, गुजरे हुए वक़्त की यादें; जाने क्यों मतलब के लिए, #मेहरबान होते हैं लोग!. .....



~~~~~~~~



तकलीफ# जो हो कभी, मुझे सोचने से तुम्हे; एक लम्हा भी न लगाना, मुझे #भूल जाना तुम!...

Tuesday, December 8, 2015

हिंदी शायरी hindi shayai sahara tanhai mere dil me samati तन्हाई मेरे दिल में समाती

tanhai mere Dli me

तन्हाई मेरे दिल में समाती चली गई; किस्मत भी अपना खेल दिखती  चली गई; मैहकी फिजा कश्मीर खुशबू में जो देखा प्यार को ; बास याद किसी की याद आई और रुलाती  चली गई!



~~~~~~~~~~



रिश्ता बनाया है तो निभाएंगे, हर पल आपको हसाएंगे-सतायेंगे, पता है आपको तो फुर्सत नहीं याद करने की, हम ही मश्ग कर-कर के अपनी याद दिलाएंगे..



~~~~~~~~~~~



भूल से अगर कोई भूल हुई, तो भूल समाज के उसे भूल जाना, अरे भूलना सिर्फ भूल को, भूलकर भी हमे न भूल जाना...



~~~~~~~~~~~



नफरत की धूप मेरे बरसात से पहले; हालात ना थी ऐसी तेरी मुलाकात से पहले; हर किसी को हमदर्द समझ लेते; हम भी कितने सदा  मोहब्बतों के तजुर्बो  से पहले!....



~~~~~~~~~~



वह चाँद है मगर आप से प्यारा तो नहीं; परवाने का शमा के बिन गुज़ारा तो नहीं; मेरे दिल ने सुनी है एक मीठी से आवाज़; क्या अपने मुझे पुकारा तोह नहीं!...



~~~~~~~~~



हर तरफ नूर है खुशबू है; तेरी आँखों में कैसा जादू है; साडी दुनिया है मेरी झोली में; और दुनिया मेरी बस तू ही है!.....



~~~~~~~~~



पास होते हैं जब वो मेरे तो कोई मोज़ू-इ- गुफ्तगू नहीं; दूर होते हैं तो हर गुफ्तगू उन्ही के लिए है!..

~~~~~~~~
न सर-इ-बाजार दिखाऊंगा न उसको तनहा सोचना; उससे कहना क लौट आये अब, मोहब्बत चार दी मैं ने!...


~~~~~~~~~~



पत्थर भी पिघल जाता है प्यार की आंच से;
सच्चे दिल से साथ देने पर नसीब भी बादल जाती
है;
प्यार की राहों में भी मिल जाते है सच्चे हमसफ़र;
कितना भी गिरा हुआ इंसान क्यों न हो भी सम्भल जाता करने के लिए
है!

Monday, December 7, 2015

कोई मुन्तजिर है।।koi muntjir hai

Koi muntjir. Hai.

कोई मुन्तज़िर है उसका कितनी शिद्दत से…. वह जानती है पर अनजान बानी रहती है….

No Muntjir her how passionately .... She is unaware ... Bani.

~~~~~~~~

We present candidates shadow Ujalon like I wanted you not like those Chahny....

हम तो मौजूद थय अंधेरों मैं उजालों की तरह तुम ने चाहा ही नहीं चाहंय वालों की तरह

~~~~~~~~~

इल्म ने मुझसे कहा इश्क़ है दीवाना-पण; इश्क़ ने मुझ से कहा इल्म है तखमीन-ओ-जान!...

ILM has told me Ishq Deewana-Gage; Ishq Tkmin-o-John said to me is knowledge!....

Tum ko maloom bhi hai did you even know how hindi to english

tum ko maloom bhi hai...

तुम को मालूम भी है कितने तलबगार हु तेरी पॉच उन फरिश्तो से जो रोज़ लिखती है दुयें मेरी और नाम तेरा …!!!



Did you even know how many Tlbgar Fristo them from your five daily writes Duyen my and thy name ... !!!

~~~~~~~~~~

Friday, December 4, 2015

Hindi to english shayari ek ajnabi se mujhe etna pyaar kyu Aspire to live in the everyday die;

Ek ajnabi se

एक अजनबी से मुझे इतना प्यार क्यों है इंकार करने पर चाहत का इकरार क्यों है उसे पाना नहीं मेरी तक़दीर में शायद फिर हर मोड़ पे उसी का इंतज़ार क्यों है....

Why do I have so much love from a stranger wanting to deny confesses why not get it in my destiny is probably why then wait for him on every turn....


~~~~~~~~~~



वफ़ा में अब ये हुनर इख़्तियार करना है वह सच कहे न कहे ऐतबार करना है ये तुझको जागते रहना का शौक कबसे होआ मोझे तू खैर तेरा इंतज़ार करना है...


These skills are now in dedication to warrant saying he really should not say to aitbaar hobby from when they stay awake thee thou Well your wait is Moje HOA....


~~~~~~~~~~


इंतज़ार रहता हर शाम तेरी याद में कटती हैं ...ले-ले कर नाम तेरा मुद्दत से बैठे हैं यह आस पाले की आज आएगा कोई पैगाम तेर...


Every evening there are waiting to take-take thy name, thy memories abatement period are sitting around it will be a message to you today to win...


~~~~~~~~~


यकीन है की न आएगा मुझसे मिलने कोई तो फिर यह दिल को मेरे इन्तिज़ार केसा है...


Be sure to meet me will not have any symptoms, then it Casa Intijhar my heart.....


~~~~~~~~~


नादानी की हद्द है जरा देखो तो उन्हें….. मुझे खो कर वो मेरे जैसा ढूंढ रहे है….


The limit is ignorantly look at them ... .. I lost it ... I have been looking at.


~~~~~~~~~


जीने की ख्वाहिश में हर रोज़ मरते हैं; वो आये न आये हम इंतज़ार करते हैं; जूठा ही सही मेरे यार का वादा; हम सच मानकर ऐतबार करते हैं!...


Aspire to live in the everyday die; He did not come, we wait; Man I promise pickings right; We really do assume aitbaar!...

Thursday, December 3, 2015

Hindi shayari ek sham aati hai.teri yaad lekar


Ek sham aati hai

इक शाम आती है तेरी याद लेकर एक शाम जाती है तेरी याद ले कर हमको ताऊ उस शाम का इंतज़ार है जो आये तुम्हें अपने साथ ले कर....

IK evening comes, your mind is the one evening took us to remember your uncle is waiting for the evening, which came to take with you

~~~~~~~

Jakhm etne gahre

ज़ख्म इतने गहरे है इज़हार क्या करे हम खुद निशाना बन गए वार क्या करे मर गए हम मगर खुली रही आँखे अब इस से ज़्यादा इंतज़ार क्या कर ....

What is so deep wound to express what we aim to become the war dead eyes were open but now we have to do more than wait..

~~~~~~~~

वो जो हाथ भर का था फैसला, कई मौसम मई बदल गया; उसेह नापते उसेह काटते मेरा सारा वक़्त गुज़र गया!...

It was the hand of the decision, several weather changed in May; All my time has passed Useh measuring Useh reap!...

~~~~~~~

आज तक कायम है उसके लौट आने की उम्मीद आज तक ठहरी है ज़िन्दगी अपनी जग लाख ये चाहा क यस्य भूल जॉन पर फ़राज़ हॉली अपनी जग बेबसी अपनी जग....

Continues to this day, is expected to return to her life today is staying over the wills of the World Forgot Ysy Frajh on John Holly powerlessness your own jug jug...

~~~~~~

मुद्दत से कोई शख्स रुलाने नहीं आया जलती हुई आँखों को बुझानी नहीं आया कहता था क हम साथ जियें साथ मरें गए अब रूठ गए हैं तो माननी नहीं आया...

The period a person did not teary eyes burning with the fire extinguisher did not used to say that we live with the now upset if the items did not obey. ..

~~~~~~~~

ज़ख्म इतने गहरे है इज़हार क्या करे हम खुद निशान बन्न गए वार क्या करे मर गए हम मगर खुली रही आँखे अब इससे ज़्यादा उनका इंतज़ार क्या करी...

We propose to do is wound so deep as to be dead Bann what the wise eyes were open but now we wait for him to do more than this curry...

~~~~~~~~

हर शाम से तेरा इज़हार किया करते है हर ख्वाब में तेरा दीदार किया करते है दीवाने ही तो है हम तेरे जो हर वक़्त तेरे मिलने का इंतज़ार किया करते ह....

Every evening when thy professed every dream is to have your appearance is so crazy as we waited to meet you every time you do...

~~~~~~~

Wednesday, December 2, 2015

Hindi shayari best shayari

Jo ladliyan

जो लडकिया मुझे bad boy केहेती है...शायद उन्हें ए नही पता की शेहेजादे कभी सुधरे हुए नही होते


मिल सके आसानी से उसकी ख्वाहिश किसे है? ज़िद तो उसकी है ... जो मुकद्दर में लिखा ही नहीं...


मुझको पढ़ पाना हर किसी के लिए मुमकिन नहीं मै वो किताब हूँ जिसमे शब्दों की जगह जज्बात लिखे है….!!


जिसे आज मुजमे हजार एब नजर आते हे कभी वही लोग हमारी गलती पे भी ताली बजाते थे !!


मुकाम वो चाहिए की जिस दिन भी हारु उस दिन जीतने वाले से ज्यादा मेंरे चर्चे हो

इतना भी गुमान न कर आपनी जीत पर ऐ बेखबर शहर में तेरे जीत से ज्यादा चर्चे तो मेरी हार के हैं..!!




मेरा वजूद नहीं किसी तलवार और तख़्त ओ ताज का मोहताज में अपने हुनर और होंठो की हंसी से लोगो के दिल पे राज करता हैं..


बुरे हैं ह़म तभी तो ज़ी रहे हैं.. अच्छे होते तो द़ुनिया ज़ीने नही देती.




तेवर तो हम वक्त आने पे दिखायेंगे शहेर तुम खरीदलो उस पर हुकुमत हम चलायेंगे…!!




लोगो के # ब्लड गुप मे(+) ओर (-) आता हे ओर # हमारे ब्लड गुप मे # Attitude आता है !!!!








मेरी हिम्मत को परखने की गुस्ताखी न करना पहले भी कई तूफानों का रुख मोड़ चुका हूँ……








हम आज भी शतरंज़ का खेल अकेले ही खेलते हे क्युकी दोस्तों के खिलाफ चाल चलना हमे आता नही ..।…








आदते बुरी नहीं शौक ऊँचे हैं वर्ना किसी ख्वाब की इतनी औकात नही की हम देखे और पुरा ना हो...








  नींद आए या ना आए चिराग बुझा दिया करो यूँ रात भर किसी का जलना हमसे देखा नहीं जाता...more

Hindi shayari hindi me


Kar leta hu

कर लेता हूँ बर्दाश्त हर दर्द इसी आस के साथ.. की खुदा नूर भी बरसाता है ... आज़माइशों के बाद








इससे ज्यादा बेरहमी की इन्तहा और क्या होगी ग़ालिब बाप ने लड़के को पीटने की बजाय उसका नेट कनेक्शन बंद करा दिया ।.










हथियार तो सिर्फ सोंख के लिए रखा करते हे खौफ के लिए तो बस नाम ही काफी हे ।










शुबह हुई कि छेडने लगा है सूरज मुझको । कहता है बडा नाज़ था अपने चाँद पर अब बोलो ।।









वो भी आधी रात को निकलता है और मैं भी ...... फिर क्यों उसे चाँद और मुझे आवारा कहते हैं लोग .... ?










गुजर जाएगा ये दौर भी ज़रा इत्मीनान तो रख जब ख़ुशी ही ना ठहरी तो ग़म की क्या औकात है।.










इश्क का धंधा ही बंघ कर दिया साहेब।.... मुनाफे में “जेब” जले.. और घाटे में “दिल”..










जज्ब-ए-इश्क सलामत है तो इन्शा अल्लाह कच्चे धागे में चले आयेंगे सरकार बंधे।..










लाखो की हंसी तुम्हारे नाम कर देंगे ! हर खुशी तुम पे कुर्बान कर देंगे । आये अगर हमारे प्यार मे कोई कमी तो कह देना । इस जिन्दगी को आखरी सलाम कह देंगे










  बिकती है ना ख़ुशी कहीं ना कहीं गम बिकता है. लोग गलतफहमी में हैं कि शायद कहीं मरहम बिकता है.










“दम” कपड़ो में नहींजिगर में रखो….बात अगर कपड़ो में होती तोसफ़ेद कफ़न मेंलिपटा हुआ मुर्दा भी “सुल्तान मिर्ज़ा” होता.










  इश्क ओर दोस्ती मेरे दो जहान हैइश्क मेरी रुह तो दोस्ती मेरा ईमान हैइश्क पर तो फिदा करदु अपनी पुरी जिंदगीपर दोस्ती पर मेरा इश्क भी कुर्बान है










हर इल्जाम का हकदार वो हमे बना जाते है, हर खता कि सजा वो हमे सुना जाते है, हम हरबार खामोश रह जाते है, क्योकी वो अपना होने का हक जता जाते है.....mor shayari

Tuesday, December 1, 2015

Hindi shayari best 2 line

Jal jate hai

जल जाते हैं मेरे अंदाज़ से मेरे दुश्मन क्यूंकि एक मुद्दत से मैंने न मोहब्बत बदली और न दोस्त बदले .!!.



दादागिरी तो हम मरने के बाद भी करेंगे लोग पैदल चैलेगे और हम कंधो पर ..!!




आज का विचार: अगर परछाईयाँ कद से और बातें औकात से बड़ी होने लगे तो समझ लीजिये कि सूरज डूबने ही वाला है..!



Ek वो ‪#‎pagali‬ हैं जो मुझे समजती nahi..Or यहाँ Jamana मेरे ‪#‎Status‬ ko dekhke दीवाना हुआ Ja रहा है..!!



दर्द ऐ महोबत तो हमने भी बहुत की पर भुल गये थे की HEROIN कभी VILLAIN की नही होती...!!



कोई ना दे हमें खुश रहने की दुआ तो भी कोई बात नहीं वैसे भी हम खुशियाँ रखते नहीं बाँट दिया करते है...!!!




हुकुमत वो ही करता है जिसका दिलो पर राज हो...!! वरना यूँ तो गली के मुर्गो के सर पे भी ताज होता है...!!




तु अपने पापा की परी है।तो क्या हुआ...हम भी अपने बाप के नवाब है।.




रेस वो लोग लगाते है जिसे अपनी किस्मत आजमानी हो... हम तो वो खिलाडी है जो अपनी किस्मत के साथ खेलते है





‪#‎लडकी‬ तो कभी ‪#‎पटाई‬ नहीँ पर ‪#‎बदनाम‬ तो ऐसे हो रहे है जैसे_100 रानी यों का ‪#‎अकेला‬ बादशाह हूँ..




  जो लडकिया मुझे bad boy केहेती है...शायद उन्हें ए नही पता की शेहेजादे कभी सुधरे हुए नही होते




तेरी मोहब्बत को कभी खेल नही समजा वरना खेल तो इतने खेले है कि कभी हारे नही ।





हम तो दिलके बादशाह हैं जो सुनते भी दिल की है और करते भी दिल की है||

Monday, November 30, 2015

Hindi shayari 2line shayari


Mohabbat hai

मोहब्बत है की नफरत है,इतना तो समझाए ,
कभी मैं दिल से लड़ती हूँ .
कभी दिल मुझसे लड़ता है ,












हमारी शायरी दिलाती है आशिक़ की याद ,
यह दहरती भी है हमारे इश्क़ की फ़रियाद







दिन को दिन कहते है रात को रात कहते है.हम जिन से वफ़ा करते है वो हम को बेवफा कहते है,









फिर मुकद्दर की लकीरों में लिख दिया इन्तेजार ,फिर वही रात का आलम और में तनहा तनहा,,










मरने के बाद भी मेरी आँखे खुली रही,आदत ही पढ़ थी उनके इन्तेजार की,












उस वक़्त इन्तेजार का आलम ना पूछिये ,जब कहे रहा हो कोई बस आ रहा हूँ में,,,










ऐ दोस्त तू ना आया तेरे इंतेजार में ,इक मौत थी जो आ गई वादा किये बगैर,,,,,!!!!









पाबन्दी ए वफ़ा है तो फिर मध् से कम,
मर जाये किसी की तमन्ना ना कीजिये,,,








चलो कुछ दिन के लिए दुनिया छोड़ देते है,फ़र्ज़ सुना है लोग बहोत याद करते है चले जाने के बाद,,.









  लोगो के  ब्लड गुप मे(+) ओर (-) आता हे ओर  हमारे ब्लड गुप मे # Attitude आता है !!!!






#आदते बुरी नहीं शौक ऊँचे हैं वर्ना किसी ख्वाब की इतनी औकात नही की हम देखे और पुरा ना हो...







इतना भी गुमान न कर आपनी जीत पर ऐ बेखबर शहर में तेरे जीत से ज्यादा चर्चे तो मेरी हार के हैं..!!












#मिल सके आसानी से उसकी ख्वाहिश किसे है? ज़िद तो उसकी है ... जो मुकद्दर में लिखा ही नहीं...













मुकाम वो चाहिए की जिस दिन भी हारु उस दिन जीतने वाले से ज्यादा मेंरे चर्चे हो










तेवर तो हम वक्त आने पे दिखायेंगे शहेर तुम खरीदलो उस पर हुकुमत हम चलायेंगे…!!

Sunday, November 29, 2015

Hindi shayari हिंदी शायरी

तुझे इंकार ह

तुझे इंकार है मुझसे मुझे इकरार है तुझसे.
तू खफा है मुझसे मुझे चाहत है तुझसे .
तू मायूस है मुझसे मुझे खुसी है तुझसे .
तुझे नफरत है मुझसे और मुझे। प्यार है तुझसे,,,







मोहब्बत है की नफरत है,इतना तो समझाए ,
कभी मैं दिल से लड़ती हूँ .
कभी दिल मुझसे लड़ता है ,







हमारी शायरी दिलाती है आशिक़ की याद ,
यह दहरती भी है हमारे इश्क़ की फ़रियाद








फ़क़त एक बात कहना चाहता हूँ .तेरी आँखों में रहना चाहता हूँ.बहोत जाग चूका हूँ तेरे हिज्र मे.तेरे अंचल में सोना चाहता हूँ.ज़माने भर की खुशियाँ और तेरा ग़म.ये गम में कुछ और अब सैहना चाहत हू,,ँ









ये गम और आंसू कभी कम नही होंगे,यादों के ये मेले कभी कम नही होंगे,जिंदगी के ख़ुशी के पल हमारे साथ भी गुजार लो,बहोत याद करो गे जब हम नही होंगे,










कैसे बताये तुम मेरे लिए कौन हो?
तुम जीवन का संगीत हो.
तुम जिंदगी तुम बंदगी.
मेरे लिए अपना भी। तुम .
मेरे लिए सपना भी तुम.
मेरे लिए रोना  भी तुम.
मेरे लिए हंसना भी तुम.
मिस....यूँ









कब तक प्यार के एक पल का इन्तेजार करना होगा,कब तक इस इन्तेजार की आग मे यूँही जलना होगा,मेरे दिल से अब सबर और ना होगा,आखिर कब तक तुम्हारे साथ एक पल जीने केलिए,मुझे यूँही पाक पल मरना होगा,








रूठी हुई आँखों में इन्तेजार होता है,ना चाहते हुए भी प्यार होता है,क्यों देखते हैं हम वो सपने,जिनके टूटने पर भी उनके सच होने का इन्तेजार होता है,









इतना ऐतबार तो अपनी धड़कनो पर भी हमने ना किया,जितना आपकी बातो पर करते है,इतना इन्तेजार तो अपनी सांसो का भीं ना किया,जितना आपके। मिलने का करते हैं,












दिल के सागर मे लहरे उठाया ना करो,
ख्वाब बनकर नींद चुराया ना करो,
बहुत चोट लगती है मेरे दिल को,
तुम ख्वाबो में आ कर यू तडपाया ना करो….









पत्थर की दुनिया जज़्बात नही समझती,
दिल में क्या है वो बात नही समझती,
तन्हा तो चाँद भी सितारों के बीच में है,
पर चाँद का दर्द वो रात नही समझती…










बहुत खूब सूरत है आखै तुम्हारी
इन्हें बना दो किस्मत हमारी
हमें नहीं चाहिये ज़माने की खुशियाँ
अगर मिल जाये मोहब्बत तुम्हारी










तेरी ख़ामोशी हमारी कमजोरी हैं,
कह नहीं पाना हमारी मज़बूरी हैं,
क्यों नहीं समझते हमारी खामोशियो को,
खामोशियो को जुबा देना बहुत जरुरी हैं

Friday, November 27, 2015

2 line best shayari-sahara Jalwo ki जलवो की साजिशो


Jalwo ki sajisho.जलवो की साजिशो

जलवो की साज़िसो को न रखो हिजाब मे

ये बिजलिया है रुक न सकेंगी नक़ाब में.....ं






Aadat ke baad.आदत के बाद

आदत के बाद दर्द भी देने लगा मज़ा,
हंस हंस के आह आह किये जा रहा हु मैं,,,





Suna hai ishq.सुना है इश्क़

सुना है इश्क़ का शौनक नही तुम को ,
मगर बर्बाद तुम कमाल करते हो,






Udashiya.उदासियां मेरी

उदासियां  मेरा  दमान ही नही छोड़ती,
अब तो जीने की तमन्ना भी साथ छोड़ गई





Karna ho kisi ko.करना हो किसी को

करना हो किसी को इश्क़ तो यारो सीने मे बसा लेना ,
अगर कभी टूट जाये तो सिर्फ यादों की ही दवा लेना




Dil ne you.दिल ने य

दिल ने यूँ भी कहा मुझसे हंस कर कई बार,
तू खुद पागल ना हो जाना मुझे समझाते समझाते





Har dam duwa.हर दम दुवा

हर दम दुवाए देना हर लेहज़ा आहें भरना ,
उन का भी काम करना अपना भी काम करना




Hakikat se bahot door hai.हकीकत से बहोत दूर ह

हकीकत से बहोत दूर है मेरी खोवहिंसे मेरी,
फिर भी खवहिंस है की इक खवाब हकीकत होजाये,




Bahot khaas the.बहोत खास थ

बहोत खाश थे कभी नज़रो मे किसी के हम भी,
मगर नज़रों के तकाज़े बदलने मे देर कहा लगती है




Yaad hai ab.याद है अब

याद है अब तक तुझसे बिछड़ने की वो अँधेरी शाम मुझे,
तू खामोश खड़ा था लेकिन बातें करता था .....मिस यू



Jaise meri nigaah.जैसे मेरी। निगाह

जैसे मेरी निग़ाह ने देखा ना हो कभी ,
मेहसूस ये हुवा तुझे हर बार देख कर,

Wednesday, November 25, 2015

कोई ख़ुशी की चाह में रोया

कोई ख़ुशी की चाह में रोया 

कोई दुःख की पनाह में रोया

आजीब सिलसिला है। ये जिंदगी का

कोई भरोसे के लिए रोया

कोई भरोसा कर के रोया।।।।।







छु ले आसमान ज़मीन की तलास न  कर।

जी ले जिंदगी ख़ुशी की तलास न कर ।

तक़दीर बदल जायेगी खुद ही मेरे दोस्त

मुस्कुराना सीख ले वजह की तलास न कर।।।







ठिकाना क़बर है तो इबादात कर मुसाफिर

कहते है खली हाथ किसी के घर जाया नही करते।।।।